fbpx class="post-template-default single single-post postid-148 single-format-standard wp-embed-responsive everest-forms-no-js post-image-below-header post-image-aligned-center sticky-menu-fade mobile-header right-sidebar nav-below-header separate-containers nav-search-enabled header-aligned-left dropdown-hover featured-image-active elementor-default elementor-kit-439" itemtype="https://schema.org/Blog" itemscope>

लॉक डाउन मैं हमें क्या करना चाहिए ?

कुछ मेरे personal लोगो ने हमारा content पढ़ रहे है. ओ लोग हमारे framework फॉलो कर रहे है. उन्हें हमारा content बहुत ही अच्छा लगा है. but, ओ लोग हमें कुछ suggestion दे रहे है. इन लॉकडाउन की परिस्तिथि मैं हमारे youth को क्या करना चाहिए. and ओ कर क्या रहे है. सारी दुनिया को पता है. इंडिया के पास बहुत बड़ी संख्या मैं youth power है. but, इस youth ने इस वक्त का सही तरह से use करके लेना चाहिए. हम लॉक डाउन मैं क्या काम कर सकते है. इन सब की समस्या का solution क्या करना चाहिए आपको देने वाला है.

              Index  

  • scheduling of time  
  • decide one goal इन कोरोना
  • हम इस time से क्या चाहते है
  • सबसे important DEPRESSION मैं जाना नहीं है. इस time से सीखना है
  • knowledge लेते रहना चाहिए.
  • खाना अच्छा लेना चहिये
  • एक्सरसाइज, योगा, प्राणायाम etc
  • रीडिंग
  • goal related work
  • इन्द्रिये
  • मन

Generally, इन कोरोना वायरस मैं मैंने कुछ observe किया है. एक तो लोगो को छुट्टी मिल गई. इसकी  वजह से बहुत खुश है. but, जो पहले से कुछ नहीं करते थे. ओ और भी खुश हो गए. because, पहले उनके घरवाले पीछे पड़ते थे की, जा कुछ कर ले. and जो लोग कुछ करना चाहते है. उनका अभी कुछ चालू हुआ था. और, लगेच बंद होने को आया. इसीलिए ओ थोडा depress होंगे. अभी मैं आपको clear करता हूँ. हमारा focus उस category को है. जो सच मैं जीवन कुछ करना चाहते है. हमरे लिए बहुत ख़ुशी है की, कोई तो आगे बढ़ रहा है. हमारा लॉकडाउन का content पढ़ के. कुछ आपको निचे मैं simple language मैं instruction देता. उसे अपने मन मैं उतार के उसको फॉलो करे. सबसे पहले तो मन को नियंत्रण करना सीखो.

  • Goal setting

लॉकडाउन के समय मैं एक चीज free मैं मिल रही सबको ओ है ‘ time.’ but, monkey mind हमारा   कभी सुनेगा नहीं. मन का स्वाभाव है. दुखी रहना. बैचेन रहना. बुरे ख्याल आना. तो, सबसे पहले मन को एक auto suggestion देते रहना चाहिए की, ये free मैं मिला हुआ time को waste नही करना है. इस negative atmosphere से कुछ positive action लेना है. and अपने goal के related activity कर के एक कदम आगे बढ़ना है.

मुझे पता है. जो मैं बताने जा रहा. ओ इतना भी easy नहीं है. अब मैं बोलूँगा सुबह जल्दी उठने की आदत लगाओ. आप बोलोगे, पहलेच छुट्ठी है. इस में भी सुबह जल्दी उठना. ये कैसे logic है. but, सुनिए दोस्तों, जो कम भीड़ मैं नहीं होता. ओ अकेल मैं होता है. आपको अभी से शुरुवात करनी है. सुबह जल्दी उठने के लिए. एक research के मुताबिक हमारे देश मैं २७% लोग ही सुबह उठ पाते है. उसमें भी youth का contribution बहुत ही कम है. यहाँ पर मैं आपको बताना चाहता हूँ की, आपको  सुबह जल्दी उठने की आदत लगानी है.

  • आपको कुछ schedule बनाना है. उसमें सारे segment add होने चाहिए. और time का बहुत अच्छा utilization होना चाहिए. एक daily schedule होना चाहिए. उसमें आपके जितना time timepass के लिए देना है. कितना focus, concentration से काम करना है. ये आपको schedule मैं लाना है. आपको ज्यादा तर ज्यादा अपने goal के related activities ज्यादा करनी है.
  • Reading

अभी आपको schedule मैं एक चीज add करनी है. ओ है पढाई की आदत. आपको daily १ घंटा तो पढना है. पढ़ते time आपका एक प्रकार से मैडिटेशन होता है. आपके कुछ इन्द्रिये पुरे focus से काम करती है. जितने भी billionaires है. उनकी एक ही common habbit है. अच्छे अच्छे books पढ़ना.

  • लॉकडाउन मैं time का सही तरह use करना है. i know आप बोलेंगे, friendzone को देख के timepass करने का मन करेगा. but, we have goal statement not a enjoy statement. ऐसे मन आपका भटक सकता है. इस चीज के लिए मेरे पास एक powerfull solution है. Affirmation.

मैं आपको कुछ sentence दे देता. जबी भी आपका मन भटक जायेगा कुछ देखकर. then, ओ affirmation को अपने मन को बोल देना.

  1. I have a goal statement, not a girl statement.
  2. मैंने अपने goal को commitment दी है. चाहे कुछ भी हो जाये. मैं मेरी commitment तोड़ नहीं सकता.
  3. मैं इतना दूर आया हूँ. यहाँ पे रुकने के लिए नहीं. और आगे बढ़ने के लिए.
  4. I am powerful because I have a purpose.
  5. मेरे goal की बाहर की एक भी activity नहीं करूँगा.
  • Healthy diet

healthy lunch plan होना चाहिये. हम लोग खाने मैं कुछ भी खा लेते है. but, ऐसा ना करे. अक बात याद रखिये, जैसा खान-पान वैसा मन behave करता है. but उस खाने का एक ritual schedule होना चाहिए. ऐसे कभी भी खाने का. ऐसा schedule आपके शरीर को हानिकारक है. ऐसा आपका कोनसा च काम focus से कभी नहीं होगा. मैं तो आपको और एक बात बता देता. अपने खाने का प्लेट खुद ही धो दीजिये. इससे आपके माँ को थोड़ी मदत हो जाएगी. और अपक ये बदलाव देख के बहुत अच्छा लगेगा.

  • अगर आप सुबह जल्दी उठ जाते है. तो, आप थोडा rest ले सकते है. digestion की प्रक्रिया मैं थोडा body dull हो जाती है. लेकिन उसके बाद तुरंत आपके schedule के हिसाब से काम को लगना है. दोपहर के बाद थोडा willpower कम हो जाती है. but, दोस्तों अगर सच में कुछ करना है तो. क्या दोपहर और क्या रात. कभी भी कितना भी कम focus से किया जा सकता है. i know थोडा आलस आता है.
  • Bhagwat geeta ज्ञान  

सुनिए मेरी बात बात ठिकसे दोस्तों, मैं आपको ओह क्रन्तिकारी श्लोक बता देता हूँ. जो भगवन श्री कृष्णा ने अर्जुन से कहा था. अर्जुन भी आपकी तरह दुर्बल होता है. अपनी responsibillty से भाग रहा था. ये श्लोक मैंने और एक ब्लॉग मैं लिखा है. ऐसा मत समजो की , कॉपी किआ उधर से इधर. मेरा हर एक content सोचे समजे रहता है. और मेरी यही कोशिश रहती है की, आपके problem मैं solve कर सकू. और लॉकडाउन मैं आप भगवत गीता पढ़ना नहीं तो उसके podcast सुनना चालू करो.

                क्लैब्यं मा स्म गमः पार्थनैतत्त्वय्युपपद्यते।
              क्षुद्रं हृदयदौर्बल्यं त्यक्त्वोत्तिष्ठ परन्तप ॥

भगवन श्री कृष्णा बता रहे है. हे अर्जुन ऐसे नपुंसक जैसा क्यूँ अपना धनुष्य निचे रखा है. ये तुम्हे शोभा नहीं देता. अपना ये ह्रदय मैं जो कमजोरी आई है. इसके वजह से तुम्हरा मन भी विचलित हुआ है.  

उसी तरह आप भी ऐसे आलस के शिकार हुए है. just becasue आपका mind control मैं नहीं है. सुनिए मेरी और एक बात. काम करने को काम करना नहीं कहते. काम करते रहने को काम करना नहीं कहते. काम को finish करने को काम करना कहते है.  

मैं जब भी भगवत गीता पढता हूँ ना मेरे मैं energy आ जाती है. हाँ इस लॉकडाउन मैं आप भगवत गीता पढ़ सकते है. मैं तोह आपको strictly वही recommend करता हूँ. मन आपका गुलाम बन जायेगा.

  • fitness mantra

श्याम को आप कुछ ground game खेल सकते है. जैसे की हमरा सबका fav क्रिकेट खेल सकते हो. फुटबॉल etc. कुछ भी sport game खेल सकते हो. उससे आपकी body वापस boost हो जाएगी. और, थोडा हल्का सा dinner लेने के बाद वापस अपनी schedule की activity कर सकते है. सुनिए मेरी बात रुकना नहीं है. डॉ. विवेक बिंद्रा कहते है. “तब तक goal का पीछा करो, जब तक आप उसे हासिल ना करो”. क्या बात बोल देते है. विवेक सर तो, energy से भर जाता हूँ.

  • रात को आधा घंटे से सोने से पहले एक ग्लास हल्दिवाला दूध पि लीजिये. dinner ७ बजे के बाद  बिलकुल नहीं लेना है. सोने से पहले कल की planning करो. की, कैसे आज से बहतर कल बना सकते हो. कैसे कम से कम समय मैं task complete कर सकता हूँ.       

दोस्तों क्या है ना, ये जो समय है. बहुत ही critical है. जिनका अभी अभी startup चालू हुआ है. ओ सब लोग परेशान है. कैसे आगे और time ख़राब होगा. carrier की चिंता. but, मेरे दोस्तों घबराने की कोई बात नहीं है. ये जो time मिला है. उसका सही तरह से use करना है. हमरी जितनी भी गन्दी आदते है. उसको बंद करने है. कुछ नई अच्छी चीजो की आदत लगानी है. एक ritual daily schedule बनाना है. इस time को self improvement के लिए लगाना है. लॉक डाउन मैं ये सारी चीजे हमें करनी है. एंड कोई बात नहीं. time जा रहे. इतना strong बनाना है की, जैसे ही सब open हो. लॉकडाउन मैं competition से आगे एक छलांग मारनी है. ताकि, कोई हमारा मुकाबला न कर सके. चाहे कुछ भी हो जाये ये वक्त हमें बरबाद नहीं करना है. “क्या करना चाहिए” हमेशा आपकी मदत के लिए content डालते रहेगा. धन्यवाद !  

             

             

Leave a Comment